Press "Enter" to skip to content

Visit the historic Longewala battle site; Worshiped in the temple of Tanot Mata | ऐतिहासिक लोंगेवाला युद्ध स्थल को देखा; तनोट माता के मंदिर में पूजा अर्चना की

जैसलमेरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
बार्डर पर जवानों से मुलाकात के दौरान उपराष्ट्रपति। - Dainik Bhaskar

बार्डर पर जवानों से मुलाकात के दौरान उपराष्ट्रपति।

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडु ने आज जैसलमेर में भारत पाकिस्तान सीमा के पास बने लोंगेवाला युद्ध स्थल का दौरा किया। भारत पाकिस्तान युद्ध 1971 की उस निर्णायक लड़ाई में भारतीय सैनिकों के साहस और पराक्रम को याद किया। उपराष्ट्रपति आज अपनी पांच दिवसीय राजस्थान यात्रा पर जैसलमेर पहुंचे। उन्होंने अपनी इस यात्रा की शुरुआत प्रसिद्ध तनोट माता के मंदिर के दर्शन से की। मंदिर में उपराष्ट्रपति ने अपनी पत्नी उषा नायडु के साथ तनोट माता की पूजा अर्चना की। इस अवसर पर उन्होंने तनोट स्थित विजय स्तंभ पर वीर सैनिकों की याद में फूलमाला अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

तनोट माता मंदिर में उपराष्ट्रपति

तनोट माता मंदिर में उपराष्ट्रपति

लोंगेवाला युद्ध स्थल पहुँच वीर सैनिकों को किया याद

उपराष्ट्रपति 1971 के एतिहासिक युद्ध स्थल पर पहुंचे जहां मेजर जनरल अजीत सिंह गहलोत ने उन्हें उस ऐतिहासिक लोंगेवाला युद्ध की जानकारी दी। बाद में अपनी एक फेसबुक पोस्ट में उपराष्ट्रपति ने लोंगेवाला युद्ध स्थल की अपनी यात्रा को जीवन का अविस्मरणीय अवसर बताया। उन्होंने लिखा कि भारत- पाकिस्तानी सीमा के पास धूल भरे थार रेगिस्तान में रेत के टीले पर खड़े हो कर उस भीषण युद्ध की गाथा सुनना और हमारे वीर सैनिकों के पराक्रम की कहानियां सुनना, मेरी स्मृति में हमेशा के लिए अंकित रह गया है। उस युद्ध में मेजर कुलदीप सिंह चांदपुरी और 23 पंजाब की A कंपनी के उनके साथी सैनिकों के शौर्य की सराहना करते हुए उपराष्ट्रपति ने लिखा “लोंगेवाला का युद्ध देश के सामरिक इतिहास का स्वर्णिम अध्याय है जिसमें देश के फौलादी इरादों को उजागर किया, जिसमें संख्या बल में कम सैनिकों ने अपने से कहीं बड़ी दुश्मन की आगे बढ़ती सेना को रोक दिया। नायडु ने भारतीय सैनिकों के कभी हार न मानने के जज्बे का को सलाम किया। उपराष्ट्रपति के तनोट पहुँचने पर उनका स्वागत केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी व सीमा सुरक्षा बल के अधिकारियों द्वारा किया गया तथा लोंगेवाला युद्धस्थल पर सेना के वरिष्ठ अधिकारियों ने उनकी अगवानी की। राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र उनकी इस यात्रा में उनके साथ रहे।

लोंगेवाला युद्ध स्थल पर अपने विचार लिखते

लोंगेवाला युद्ध स्थल पर अपने विचार लिखते

सम के रेतीले धोरों पर लोक संगीत का लिया आनंद

वेंकैया नायडू ने रविवार शाम सम के विश्व प्रसिद्ध रेतीले धोरों पर पहुंच कर देश-विदेश में मशहूर लोक कलाकारों की लोक लहरियों का आनंद लिया। उप राष्ट्रपति ने रेतीले धोरों पर जीप सफारी का लुत्फ लिया और धोरों पर शाम की सुंदरता का भी लुत्फ उठाया। सम के रेतीले धोरों पर तगाराम एण्ड पार्टी के अलगोजा वादन का आनंद लिया।

सांस्कृतिक कार्यक्रम में अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति के लोक कलाकारों ने लोक वाद्यों की सुमधुर धुनों से समा बांध दिया। इस दौरान सवाई खां एण्ड पार्टी बरना ने डेजर्ट सिम्फनी एवं कालबेलिया नृत्य, थानु खान एण्ड पार्टी, तगाराम एण्ड पार्टी, रोजे खां और बक्से खान आदि लोक कलाकारों ने लोक सांस्कृतिक प्रस्तुतियों से सबको खासा सुकून दिया।

सम के रेतीले टीलों पर

सम के रेतीले टीलों पर

सोमवार को वार म्यूजियम का अवलोकन करेंगे, सैनिकों को सम्बोधित करेगे

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू सोमवार को जोधपुर रोड स्थित वार म्यूजियम का दौरा करेंगे एवं सेना के अधिकारियों के साथ चर्चा करेंगे। वे वार म्यूजियम में लोंगेवाला हॉल के बाहर वृक्षारोपण करेंगे। इसके बाद वे 191 बटालियन सीमा सुरक्षा बल में सैनिक सम्मेलन में सैनिकों को संबोधित करेंगे। इस दौरान राज्यपाल कलराज मिश्र भी साथ रहेंगे। उपराष्ट्रपति सोमवार दोपहर बाद जैसलमेर से वायुसेना के विशेष विमान से जोधपुर के लिये उड़ान भरेंगे।

लोक कलाकारों के साथ

लोक कलाकारों के साथ

खबरें और भी हैं…

Source link

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *